www.poetrytadka.com

ji chahta hai

जी तो चाहता है बहोत तुम्हे अपने दिल में छुपा लू !
मगर ना ''वक्त'' ने इज़ाज़त दी और ना कभी तुम ने !!