www.poetrytadka.com

jga diya teri pawjeb ne

सुला चुकी थी ये दुनिया ,

थपक-थपक के मुझे , 

जगा दिया तेरी पाजेब ने ,

छनक के मुझे , 

कोई बताये की मै इसका 

क्या इलाज करून , 

परेशां करता है ये दिल , 

धड़क-धड़क के मुझे