www.poetrytadka.com

jab ki pta hai

घड़ी घड़ी वो हिसाब करने बैठ जाते है !
जबकि पता है, जो भी हुआ, बेहिसाब हुआ !!