www.poetrytadka.com

ishq ki nbazi

उसने इस कमाल से खेली इश्क़ की बाज़ी !
मैं अपनी फतह समझता रहा मात होने तक !!