www.poetrytadka.com

Intzar kabhi khatm nahi hoga

Last Updated
दौर-ए-इंतेज़ार मेरा कभी ख़तम नहीं होगा I
मिल कर तुम से हर बार बिछड़ना ही होगा II