www.poetrytadka.com

hum to phoolo li trah

हम तो फूलों की तरह अपनी आदत से बेबस हैं !
तोड़ने वाले को भी खुशबू की सजा देते हैं !!

हिन्दी शायरी