www.poetrytadka.com

hum phirte rah gae

हम फिरते रह गए सच्चे दोस्त के तलाश मे दर-बदर !
अब स्वार्थी दुनिया मे निस्वार्थ कहाँ यार मिलते है !!