www.poetrytadka.com

hum ne har baar

हमने हर बार बदला है खुद को.सिर्फ़ उसकी खातिर !
और वो कहता है....तुम पहले जैसे नहीं रहे !!