www.poetrytadka.com

Hum Naadan

हमारे बगैर भी आबाद हैं उनकी महफ़िलें !
हम नादान समझते थे की ये रौनकें हमसे हैं !!