www.poetrytadka.com

hum ja rhe hai

हम जा रहे हैँ वहाँ, जहाँ दिल की हो कदर !
बैठे रहना तुम, अपनी अदाएँ सम्भालकर !!