www.poetrytadka.com

hum akele gunahgar nahi

hum akele gunahgar nahi

दीवाने है तेरे नाम के इस बात से इंकार नहीं !
कैसे कहे कि तुमसे प्‍यार नहीं कुछ तो कसूर है !
आपकी आखों का हम अकेले तो गुनहगार नहीं!!