www.poetrytadka.com

ho ske to nikal fheko

हो सके तो निकाल फेंको हमें ज़हन से !
सुना है टूटी हुई चीज़ों को घर में नहीं रखते !!