www.poetrytadka.com

hme dard ke angaro pe chalne doo

हमें दर्द के अंगारों पर चलने दो खामोश यूँ ही !
ज़ख्मों ने ज़ुबाँ खोली तो कितना कुछ कह जाएंगे !!