www.poetrytadka.com

hmari adhuri khani

जब कभी सिमटोगे इन बाहो मे आ कर !
मोहब्बत की दास्तां हम नही हमारि धड़कने सुनाएंगी II