www.poetrytadka.com

Hawa ki tarah bahti hai Mohabbata

Hawa ki tarah bahti hai Mohabbata
हवा की तरहा बहती है मोहब्बत।
खून की तरह रगों में दोड़ती है मोहब्बत।।
तुम चाहे कितनी भी बचने की कोशिश कर लो ।
जिंदगी में एक बार तो डसती है ये मोहब्बत ।।