www.poetrytadka.com

Hasne ki aadat se hum mashhoor huaa kate the

हंसने की आदत से मसहूर हुआ करते थे कभी इस जहाँ में हम !
खुदा सलामत रखे उस सख्स को जिसने हमें रोना सीखा दिया !!
सबसे बेस्ट शायरी Click Here