www.poetrytadka.com

Har Aankh

कभी इतना मत मुस्कुराना की नजर लग जाए जमाने की !
हर आँख मेरी तरह मोहब्बत की नही होती !!