www.poetrytadka.com

Hai Koi

है कोई अहल-इ-दिल जो खरीद ले हमारे मिज़ाज़ को !
हम ज़ख्म खरीदते हैं मोहब्बत करने वालों से !!