hai kaisi paheli

खूब खेले वो आंख मिचोली ढुंढती उसे जब रहूँ अकेली
कभी दुख कभी सुख तू है कैसी पहेली
धूप-छांव सी जिंदगी मेरी सहेली
© pallavi gupta

कृपया शेयर जरूर करें

Read More