www.poetrytadka.com

guzar jane de es zindagi ko

गुज़र जाने दे इस ज़िन्दगी को गिरते पत्तों की तरह !
यूँ पल-पल मरना भी किसी सज़ा से कम नहीं होता !!