www.poetrytadka.com

guzar jaae ye waqt

गुजर जायेंगा ये वक्त भी रख जरा सा इत्मीनान !
जब खुशीयां नहीं ठहरी तो गम की बिसात क्या है !!