www.poetrytadka.com

Gumrah on poetrytadka

Last Updated

मुझ से ज़्यादा इस महफ़िल में बेइमान नहीं कोई !
हर मिलने वाले को अपनी मुस्कराहट से गुमराह किया है मैने !!

हिन्दी शायरी