www.poetrytadka.com

Guma tha mujhko

गुमाँ था मुझको मुहब्बत फ़रेब थी उसकी !
मगर फिर भी वो दिलफ़रेब मुझे अच्छा लगा !!