www.poetrytadka.com

gulab kaisa rang laya hai

देख तेरा दिया हुआ गुलाब कैसा रँग लाया है !
जो सज न सका तेरी डोली में आज मेरे जनाजे पे काम आया है !!