www.poetrytadka.com

gribo ki mohabbat ka

बना के ताजमहल एक दोलतमन्द आशिक ने !
गरीबो की मोहब्बत का तमाशा कर दिया !!

हिन्दी शायरी