greebi pe shayari azeeb mithas hai

अजीब मिठास है मुझ गरीब के खून में भी, जिसे भी मौका मिलता है वो पीता जरुर है

Read More गरीबी शायरी
Share via Whatsapp