www.poetrytadka.com

Greebi pe shayari azeeb mithas hai

अजीब मिठास है मुझ गरीब के खून में भी, जिसे भी मौका मिलता है वो पीता जरुर है