www.poetrytadka.com

gira ke hatho ke chale

गिरा के हाथों में छाले वो होनहार जो थे पाले !
वो कहते है आज, पाल कर कौन से एहसान कर डाले !!

हिन्दी शायरी