www.poetrytadka.com

Ghar se dukan dukan se ghar

ज़िन्दगी हो गई कुछ एक कदर  न इधर न उधर बस घर से दुकान दुकान से घर 

Ghar se dukan dukan se ghar
सबसे बेस्ट शायरी Click Here