www.poetrytadka.com

gantantra diwas

gantantra diwas

कोई *'हस्ती'* कोई *'मस्ती'* 

कोई *'चाह'* पे मरता है..

कोई *'नफरत'* कोई *'मोहब्बत'* 

कोई *'लगाव'* पे मरता है..

ये *"देंश"* है उन *'दिवानों'* का 

यहां हर बन्दा 

अपने *"हिंदुस्तान"* पे मरता है..

26जनवरी गणतंत्र दिवस कि हार्दिक शूभकामनायें मेरे सब देश वासियों को