www.poetrytadka.com

Fursat me krenge hisab

फुरसत मे करेंगे हिसाब.तुझसे ऐ जिंदगी !
उलझे हुये हैं हम अभी.खुद को सुलझाने में !!