www.poetrytadka.com

fir bhi pyasha rha

बिखरती रही जिंदगी बून्द-दर-बून्द !
मगर इश्क़ फिर भी प्यासा रहा !!