www.poetrytadka.com

Etrane lage hain log

रूबरू होने की तो छोड़िए लोग गुफ्तगू से भी कतराते है 

गुरूर ओढे है रिश्ते अपनी हैसियत पे इतराने लगे है 

सबसे बेस्ट शायरी Click Here