www.poetrytadka.com

ek tum ho jo

एक तुम ही तो हो जो बढाती हो जीने की आस हमारी !
.वरना कब के चले गए होते इस दुनिया से सबको छोड़ के !!