www.poetrytadka.com

ek aurat aur ek rahgeer

एक औरत अकेले बब्रिस्तान में एक कब्र पर बैठी थी 

एक राहगीर : पूछा डर नहीं लगता 

औरत : क्यों  इसमें डरने की क्या बात है अन्दर बहुत गर्मी लग रही थी तो बहर आ गई 

राहगीर बेहोस