www.poetrytadka.com

dushmno de mohabbat

दुश्मनों से मोहब्बत होने लगी मुझको !
जैसे जैसे अपनो को आजमाते चले गए !!