www.poetrytadka.com

duniya ki bheed me

Last Updated
दुनियाँ की भीड़ में तो वो जर्रे की तरह था
हम अपना ही वजूद वहाँ ढूँढते रहे
duniya ki bheed me