www.poetrytadka.com

Dosti Shayari zra sambhal kar chalna

Last Updated
हम दोस्ती में दरख्तों की तरह है
जहां खड़े हो मुद्दतों क़ायम रहते हैं
ham dostee mein darakhton kee tarah hai
jahaan khade ho muddaton qaayam rahate hain

कब भुलाये जाते हैं दोस्त जुदा होकर भी वसी
दिल टूट तो जाता है, रहता फिर भी सीने में
kab bhulaaye jaate hain dost juda hokar bhee vasee
dil toot to jaata hai, rahata phir bhee seene mein
Dosti Shayari zra sambhal kar chalna