www.poetrytadka.com

Door kha tere pas hi hoon

दूर कहाँ तेरे पास ही तो हुँ मैं देख मेरी शायरीयों में !
मौजूद है तु मेरे एहसास बन कर !!