www.poetrytadka.com

dimag pe jor daal kar

दिमाग पर जोर डालकर गिनते हो गलतियाँ मेरी !
कभी दिल पर हाथ रख कर पूछना की कसूर किसका था !!