www.poetrytadka.com

dil ne khwab tumhara dekha

दिल ने ख्वाब तुम्हारा देखा आखों ने रूप सुनहरा देखा !
महफिल में हम क्या कहते हुस्न पर तुम्हारे पहरा देखा !!