www.poetrytadka.com

dil lagta nahi tha tumhare bina

एक दौर था दिल लगता नही था तुम्हारे बिना !
रस्म नही अपनी यादो को मिटाने के लिये आ !
जख्मो को किताबो के पन्ने मे सजा के रखा है !
वही जख्मो की किताब को जलाने के लिये आ !!