www.poetrytadka.com

dil ko kabu

धडकनों को कुछ तो काबू में कर ऐ दिल 

अभी तो पलके झुकाई है मुश्कुराना बाकि है