www.poetrytadka.com

Dil ki hasrat

Last Updated

दिल की हसरत मेरी ज़ुबान पे आने लगी;

तुमने देखा और ये ज़िन्दगी मुस्कुराने लगी;

ये इश्क़ के इन्तहा थी या दीवानगी मेरी;

हर सूरत में मुझे सूरत तेरी नज़र आने लगी।