www.poetrytadka.com

dil ke sagar me lahre

दिल के सागर में लहरें उठाया ना करो !
ख्वाब बनकर नींद चुराया ना करो !
बहुत चोट लगती है मेरे दिल को !
तुम ख्वाबो में आकर युँ तडपाया ना करो !!