www.poetrytadka.com

dil hi to tha bhar gya hoga

अब गिला क्या करना उनकी बेरुखी का !
दिल ही तो था भर गया होगा !!