www.poetrytadka.com

Dil ab pahle jaisa

दिल अब पहले जेसा मासुम नही रहा.....
पथर तो नही बना मगर अब मोम भी नही रहा ..

सबसे बेस्ट शायरी Click Here