www.poetrytadka.com

Dhokha naa dena tumpe aetbaar bhut hai

धोका ना देना की तूम पर एतबार बहुत हैं !
ये दिल तेरी चाहत का तलबगार बहुत हैं !
तेरी सूरत ना दिखे तो दिखाई कुछ नहीं देता !
हम क्या करे की तुमसे हमें प्यार ही बहुत हैं !!