www.poetrytadka.com

Dekhi hai berukhi

देखी है बेरुखी की... आज हम ने इन्तेहाँ, 

हमपे नजर पड़ी तो वो महफ़िल से उठ गए

सबसे बेस्ट शायरी Click Here