www.poetrytadka.com

Dard Nafrat Shayari

कौन कहता है सिर्फ नफरतो में ही दर्द है 
कभी-कभी बेपनाह मोहब्बत भी 
बहुत दर्द देती है.
Kaun kahta hai sirf nafraton me he dard hai
kabhi kabhi bepanaah mohabbat bhi
bahot dard deti hai.

खुदा सलामत रखना उन्हें 
जो हमसे नफरत करते हैं 
प्यार न सही नफरत ही सही 
कुछ तो है जो वो सिर्फ 
हमसे करते हैं !!
Khuda salamt rakhna unhen
j hamse nafrat karte hain.
Pyar na sahi nafrat he sahi
kuch to hai jo wo sirf 
hamse karte hain.

Dard Nafrat Shayari