www.poetrytadka.com

daliya badalne ka

कैसे रखता मैं उस परिंदे कोअपने दिल के पिंजरेमें !
ऐ दोस्तो उस बेवफा का शौक ही था डालियां बदलने का !!